रतलाम की बडी खबर: फ्लॉप शो की तरह रही रतलाम में कमलनाथ की सभा, बडी खबर रतलाम से, 6-7, bad news

0 0
Read Time:4 Minute, 43 Second

Thetimesofcapital/22/04/2022/ रतलाम की बडी खबर: फ्लॉप शो की तरह रही रतलाम में कमलनाथ की सभा बडी खबर रतलाम से

रतलाम की बडी खबर: रतलाम कमलनाथ सभा हुई फेल नही जुटा सके कार्यकर्ता भीड 50 से 6-7 पर अटके

Big news of Ratlam: Kamal Nath’s meeting in Ratlam was like a flop show

कमलनाथ की सभा रतलाम हुइ रतलाम सैलाना के विधायक जुटा नही पाये कार्यकर्ता भीड 50 हजार का कहने वाले 5से 6 हजार पर

कमलनाथ की सभी जन आक्रोश सभा पुरी तरह फेल नजर आई
शहर से नही आये कार्यकर्ता भीड

रतलाम की बडी खबर

शहर से कांग्रेस के कार्यक्रम व प्रदेश अध्यक्ष के आने का समाचार सभी को लग चूका था किन्तु न तो पूरी तरह से कार्यकता सभा में उपस्थित हुए न भीड को जूटा सकें।

फ्लॉप शो की तरह रही रतलाम में कमलनाथ की सभा बडी खबर रतलाम से

कमलनाथ की सभा में सैलाना विधायक द्वारा 50 हजार कार्यकर्ता लाने की बात कही गई थी जो मात्र बाते ही रह गयी सैलाना विधायक हर्ष विजय गेहलोत से बात करते हुए खबर प्रकाशित की गई थी जीसमें हर्ष विजय गेहलोत ने बताया था कि 25 से 50 हजार जनता कमलनाथ की सभी रैली में आयेगी। किन्तु उनकी यह बात मात्र बाते ही रह गई ।

इधर बात करें रतलाम शहर से जनता के आने की तो रतलाम शहर से हजार 2 हजार लोग मुश्किल से आये जो आये वह भी बगेर मन से सभा में उपस्थित थें। यानी की शहर हो या ग्रामीण क्षेत्र जो आश कांग्रेस लगा रही थी उसमें पूरी तरह नाकामयाब होती नजर आयी।

बंजली से लेकर अम्बेडकर ग्राउण्ड तक पूरा रोड खाली खाली से रतलाम की बडी खबर नजर आया।

कमलनाथ के आने के समय तक अम्बेडकर ग्राउण्ड में जनता नामो निशान नजर नही आ रहा था।

कुर्सिया खाली थी। कमलनाथ के आने के कूछ समय पूर्व पाण्डाल में लगाई गई कुर्सिया भरी हुई नजर आयी वह भी देखी जावे तो ज्यादा से ज्यादा 2 से 3 हजार होगी। कार्यक्रम छोटे स्थल पर किया जाना यह साबित करता है कि कम जनता के आने के आवजूद ज्यादा पब्लिक नजर आये।

रतलाम की बडी खबर: पूरी तरह यह बात साबित हो गई की कमलनाथ का जनआक्रोश यात्रा सभा रैली पुरी तरह फ्लॉप शो की रही है।

जन सभा रैली में जीले से नेता तो इकठठा हुए किन्तु मात्र अपना चेहरा करने के लिये कमलनाथ के आने के पूर्व किसी जिले के नेता ने शहर अध्यक्ष महेन्द्र कटारिया से यह नही जानना चाहा कि क्या तैयारी है ओर क्या करना है। कहते है ना कार्यक्रम सफल हो तो उसका श्रेय लेना कोई नही भूलता किन्तू कार्यक्रम फेल हो जावे तो उसकी जिम्मेदारी कौन ले जीन्होने बडी बाते कही कि हम 50 हजार कार्यकर्ता के साथ रतलाम सभा में आयेंगे। वे मात्र 5 हजार के आस पास रह गये उनके 50 से बिन्दी हट गई।

रतलाम की बडी खबर: खैर सभा भी हूई रैली भी कमलनाथ ने एक तरफ तो यह भी कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार जो मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन यात्रा शुरू कि है वह मात्र भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं के लिये है। उनकी यह बात कहना हजम नही होता है। क्या इससे यह माना जावे कि यह मात्र बीजेपी के कार्यकर्ताओं को यात्रा कराना उददेश्य है। इस बात का पता तो तभी चले जब सच्चाई सामने आवे।

कमलनाथ की बात में कितनी सच्चाई है इस बात का पता तो तीर्थ दर्शन यात्रा करने वालो से ही पता करने पर चल पायेगा कि क्या है सच्चाई क्या वे भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता है।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.