इंदौर देश का स्टार्ट-अप केपिटल बनेगा, मुख्यमंत्री श्री चौहान

0 0
Read Time:5 Minute, 50 Second

Thetimesofcapital/27/01/2022/ इंदौर देश का स्टार्ट-अप-केपिटल बनेगा मुख्यमंत्री श्री चौहान

रतलाम 26 जनवरी 2022 मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि स्टार्ट-अप के लिये प्रदेश में अनुकूल वातावरण उपलब्ध कराया जायेगा। स्टार्ट-अप के लिये वित्तीय मदद तथा अन्य सुविधाएँ मुहैया करायी जायेंगी।

इंदौर को देश का स्टार्ट-अप केपिटल बनाया जायेगा। उन्होंने युवाओं से आग्रह किया कि वे आगे आकर अधिक से अधिक स्टार्ट-अप प्रारंभ करें। राज्य शासन उन्हें #Bank loan पूरी मदद करेगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज इंदौर के ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में युवा स्टार्ट-अप उद्यमियों द्वारा आयोजित स्टार्ट-इन-इंदौर कॉन्क्लेव कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। सांसद श्री शंकर लालवानी, जन.प्रतिनिधि और बड़ी संख्या में युवा स्टार्ट-अप उद्यमी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि युवाओं में कार्य करने की असीम क्षमता है।

दुनिया में असंभव कुछ भी नहीं है। मनुष्य चाहे तो ब्रम्हाण्ड में भी कमाण्ड कर सकता है। जो वह सोच सकते हैं, वह सब कर भी सकते हैं। करो ऐसा कि दुनिया उसे देखती रह जाये और याद करे। मन में कुछ करने की तलब पैदा की जाए तो सफलता अवश्य मिलती है। उन्होंने कहा कि स्टार्ट-अप की सफलता भी इन्हीं बातों पर निर्भर है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि लोकतंत्र की असली ताकत जनता है। आज आत्म.निर्भर #Bank loanमध्यप्रदेश के लिए हम तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। आत्म.निर्भर मध्यप्रदेश के चार प्रमुख आयाम हैं, इनमें इन्फ्रास्ट्रक्चरए हेल्थ और एजुकेशनए गुड गवर्नेस, अर्थव्यवस्था और रोजगार शामिल है।

प्रदेश में तेजी से औद्योगिक निवेश बढ़ रहा है। नए औद्योगिक केंद्र भी बनाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इंदौर को कैपिटल ऑफ स्टार्ट-अप बनाया जाएगा। नये उद्योगों के लिये अलग.अलग क्षेत्रों में नवीन इंडस्ट्रियल एरिया विकसित किये जा रहे हैं। सभी स्टार्ट-अप आगे बढ़े, यह राज्य शासन की मंशा है। इसके लिए राज्य शासन द्वारा पूरी Bank loan मदद दी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज के कार्यक्रम के माध्यम से आए सुझावों को मूर्त रूप दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि स्टार्ट-अप को मदद करने के लिए वेंचर फंड की स्थापना की जाएगी। इस संबंध में कारगर योजना बनाई जाएगी। इंदौर को आईटी हब बनाने की दिशा में भी तेजी से कार्य होंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उद्यमियों को जमीनए वित्तीय सुविधा आदि मुहैया कराने के लिए कार्य.योजना बनाई जाएगी।स्टार्ट-अप को वित्तीय Bank loan मदद देने के लिए मॉडल विकसित किया जाएगा। ग्लोबल स्टार्ट-अप इन्वेस्टर्स समिट का आयोजन भी होगा।

सांसद श्री शंकर लालवानी ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान की मंशा है कि इंदौर स्टार्ट-अप का हब बने। उनकी इस मंशा को मूर्तरूप देने का कार्य शुरू हो गया है। इंदौर में 300 स्टार्ट-अप उद्यमियों का फोरम बनाया गया है। इस फोरम का यह पहला कार्यक्रम है। उन्होंने कहा कि जल्दी ही एक और महा.सम्मेलन आयोजित किया जाएगा। उन्होंने सुझाव देते हुए कहा कि इंदौर में 24 घंटे कार्य करने की संस्कृति एवं वातावरण को विकसित किए जाने की जरूरत है। यहाँ आईटी का एक बड़ा पार्क भी होना चाहिए।

राज्य आपदा प्रबंधन समिति सदस्य डॉ. निशांत खरे ने कहा कि पूर्व में नवाचार करना बहुत कठिन एवं चुनौतीपूर्ण था। शासन द्वारा किए गए प्रयासों से नवाचार एवं नया कार्य करना आसान हो गया है। उन्होंने बताया कि आज के सम्मेलन में लगभग 250 स्टार्टअप्स शामिल हुए हैं। यह बड़ी उपलब्धि है। स्टार्ट-अप नीति बनाने के संबंध में सुझाव लिए जा रहे हैं। कार्यक्रम में अनेक स्टार्ट-अप उद्यमियों ने अपने महत्वपूर्ण सुझाव भी दिए। कार्यक्रम के प्रारंभ में स्टार्ट-इन-इंदौर फोरम के ऑर्गनाइजर चेयरमेन श्री रजत जैन ने कार्यक्रम की रूपरेखा एवं इसके उद्देश्य के बारे में जानकारी दी।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.